शुक्रवार, 19 मार्च 2010

संकल्प

तुम चाहो तो जग में ज्वाला सुलगा दो,
मैं स्वप्नों का संसार न मिटने दूँगी !

तुम विप्लव का संगीत सुनाने आये,
तुम पत्थर पर निज प्रीति लुटाने आये,
तुमने मुकुलित सुमनों का यौवन देखा,
तुमने उजड़े पादप का वैभव देखा !
तुम चाहे उपवन का सौरभ बिखरा दो,
मैं कलियों का अभिसार न मिटने दूँगी !

तुमने चंदा को ज्वालामय बतलाया,
तुमने तारों को हिमकण कह दिखलाया,
तुमने हलचल मय अंतरिक्ष को पाया,
तुमको पृथ्वी का सूनापन मन भाया !
तुम दीप गगन के चाहे भू पर ला दो,
मैं संध्या का श्रंगार न लुटने दूँगी !

पावस, गर्मी, पतझड़ भू के गौरव हैं,
धरती का इनसे ही यौवन अभिनव है,
समरसरंगी पर कभी न गुंजन छाया,
मधु ऋतु का वैभव कभी न कम्पन लाया !
तुम चाहे नन्दन वन की सुषमा ला दो,
मैं मधु ऋतु का सत्कार न करने दूँगी !

हिमगिरी ने रो-रो कर अरुणा बिखराई,
उसके नयनों की निधि करुणा बन छाई,
अब क्यों सागर उस पर अधिकार जताता,
क्यों सिन्धु प्रिया कह उसको जगत बुलाता !
तुम सागर को ही खींच यहाँ ले आओ,
मैं सरिता की जलधार न बढ़ने दूँगी !

तुम रोज़ी रोटी को यूँ ही चिल्लाते,
तुम अंतरतम के घाव व्यर्थ दिखलाते,
क्या पूँजी का यह मणिधर तुम्हें सुनेगा ?
श्रम का सम्बल काँटों का पंथ मिलेगा ?
तुम पूँजीपतियों के वैभव को आँको,
मैं भूखों की मुस्कान न मिटने दूँगी !

किरण