मंगलवार, 29 जून 2010

दो बूँद

मेरे प्राणों की पीड़ा दो भागों में बँट कर के,
बन कर आँसू छलक पड़ी है दो बूँदों में ढल के !

या आशा और निराशा के दो फल बन स्वयम् फले ये,
अपनी गाथा को कहने गालों पर ढुलक चले ये !

हैं ये करुणा के द्योतक या ज्वाला की चिन्गारी,
या जगती का जीवन है नयनों का पानी खारी !

दावा बन ह्रदय जलाया अब बन कर जल नयनों से,
छल छल कर कथा व्यथा की कह रहे मौन नयनों से !

ओ दृगजल के दो बिन्दू कुछ तो बतलाते जाओ,
क्या भेद भरा है तुममें यह तो समझाते जाओ !

इन प्राणों की पीड़ा को तुमने सहचरी बनाया,
जब जली व्यथा ज्वाला में तुमने निज अंक लगाया !

मेरी पीड़ा के सहचर या तो गाथा कह जाओ,
या संग में अपने ही तुम उसे बहा ले जाओ !

किरण