रविवार, 20 जून 2010

तंत्री के तार

मत छेड़ो तंत्री के तार !
बिखर जायेंगे छूते ही ये,
गले विरह में बन कर छार !
मत छेड़ो तंत्री के तार !

उर में अब उल्लास न आता,
नहीं आज है कुछ भी भाता,
सजनि प्रेम की मधुर रागिनी
को अब कौन यहाँ है गाता,
रे गायक रहने दो चुभती
शूल समान अरे झंकार !
मत छेड़ो तंत्री के तार !

किये प्रतीक्षा बैठी हूँ मैं,
स्नेह और ममता दीपक ले,
सींचा पथ तिल-तिल कर मैंने,
ढार-ढार कर जल नयनों से,
किन्तु न ले पाई हूँ मैं सखि,
उनकी मृदु सेवा का भार !
मत छेड़ो तंत्री के तार !

आहों की आँधी घिर आईं,
उमड़-उमड़ आँखें भर आईं,
सजल अश्रुओं की फुहार सखि,
छूट-छूट कर तन पर आईं,
ऊर्ध्व स्वाँस ने छेड़ रखी है
पहले ही रागिनी मल्हार !
मत छेड़ो तंत्री के तार !


किरण