बुधवार, 23 जून 2010

जीवन पथ

जीवन है पथ , मैं पथिक सखे !

इस पथ में ममता की आँधी
चलती रहती अवदात सखे,
इस पथ में माया की सरिता
बहती रहती दिन रात सखे !

साथी चलना बहुत दूर है
दूर बसा मम देश सखे,
चलते रहना प्रतिपल प्रतिक्षण
रुकना न कहीं लवलेश सखे !

आशाओं की कुटिल झाड़ियाँ
करती हैं उत्पात सखे,
इच्छाओं की अग्नि सुलग
करती रहती व्याघात सखे !

पाप पुण्य की अमा निशा में
करने को अभिसार सखे,
मैं निकली अपने उर में ले
मम प्रियतम का सुप्यार सखे !

बढ़ने देता किन्तु न आगे
अरमानों का भार सखे,
मेरे प्रियतम छिपे हुए हैं
दूर क्षितिज के पार सखे !

किन्तु तोड़ना ही होगा संसृति
का बंधन क्षणिक सखे,
करुणा 'किरण' बढ़ा कर मुझको
देना साहस तनिक सखे !

उमड़ पड़े नयनों से वारिद
रोक न पाऊँ इन्हें सखे,
देखो ह्रदय सिंधु है उमड़ा
पावस बन तुम्हें दिखाऊँ सखे !


किरण