रविवार, 10 अक्तूबर 2010

साथी राग कौन सा गाऊँ !

साथी राग कौन सा गाऊँ !
बुझती प्रेम वर्तिका में अब कैसे जीवन ज्योति जगाऊँ !
साथी राग कौन सा गाऊँ !

चारों ओर देखती साथी अगम सिंधु दुख का लहराता,
पग-पग शान्ति निरादृत होती,यह जग निष्ठुरता अपनाता,
बोलो तो इस दुखिया मन को क्या कैसे कह कर समझाऊँ !
साथी राग कौन सा गाऊँ !

नित्य जलाती ह्रदय कुञ्ज को चिंता की ज्वाला तिल तिल कर,
जग अपनाता जिसे प्रेम से त्याग रहा उसको पागल उर,
इस उन्मत्त प्रकृति में कैसे बोलो तो प्रिय मैं मिल जाऊँ !
साथी राग कौन सा गाऊँ !

चाह रही हूँ मैं मुसकाना पर यह नैन उमड़ पड़ते हैं,
पुष्प झड़ें उससे पहले ये मोती मुग्ध बरस पड़ते हैं,
बोलो शान्ति देवि की कैसे साथी मैं पूजा कर पाऊँ !
साथी राग कौन सा गाऊँ !

मेरा कवि हँस रहा सखे पर हृदय लुटाता रक्त कटोरे,
चिर निंद्रा है एक ओर औ दूजी ओर प्रेम के डोरे,
कहो न साथी अरे कौन से पथ पर मैं निज पैर बढ़ाऊँ !
साथी राग कौन सा गाऊँ !

देख रहे सब सुख के सपने, मैं दु:खों का भार संजोये,
स्मृति के सागर में विस्मृत मुक्ताओं की माल पिरोये,
स्वागत को द्वारे पर आई, अब कैसे सब साज सजाऊँ !
साथी राग कौन सा गाऊँ !

किरण