गुरुवार, 21 अक्तूबर 2010

कवि से

सुना न कवि अब करुणा गान !
वितरित करता है कण-कण में अमर सत्य, वेदना महान्
कवि यह तेरा करुणा गान !

यदि संसृति के वज्र प्रहारों से तेरा उर क्षत-विक्षत है,
फिर भी मन की अस्थिरता क्या नहीं तुझे कुछ भी अवगत है ?
दर्द भरे स्वर से गा गाकर सुना रहे हो किसे कथा यह,
क्रूर कठिन पाषाणों को क्यों दिखा रहे हो व्यर्थ व्यथा यह ?
उर में आग, नयन में जीवन, भर अधरों में मृदु मुस्कान !
सुना रहे क्यों करुणा गान !

पा न सके यदि कृपा सिंधु का एक बिंदु तुम निष्ठुर जग से,
पर कवि मनु के अमर पुत्र क्या हट जाओगे आशा मग से ?
विचलित उर में भाव सजा कर वह प्रलयंकारी राग सुना दो,
व्यथित राष्ट्र के जीवन में फिर विप्लव की ज्वाला सुलगा दो !
परिवर्तित हो अश्रु पूर्ण नयनों में अब वीरत्व महान् !
सुना न कवि यह करुणा गान !

किरण