रविवार, 24 अक्तूबर 2010

यह कोई भगवान नहीं है

निर्ममता की सतत सृष्टि से सूखे भावुकता के अंकुर,
मोह, राग,करुणा कोमलता साजों के उखड़े सारे स्वर,
साथी खोज रहे हो किस आशा से सुदृढ़ पतवारें,
भँवर-भँवर पर नाच रही है मानवता की नौका जर्जर !

तट हैं दूर, किनारे पंकिल, मंजिल की पहचान नहीं है,
पथ काँटों से भरे हुए हैं, सही दिशा का ज्ञान नहीं है,
कहाँ भटकते भोले राही, कौन तुम्हारा पथ दर्शक है,
यह तो पत्थर की प्रतिमा है, यह कोई भगवान नहीं है !

किरण