बुधवार, 29 सितंबर 2010

* हार बैठी आज मैं सखी *

पंथ का कर व्यर्थ अर्चन हार बैठी आज मैं सखी !

प्राण वीणा में निरंतर
करूण स्वर मैं साधती थी ,
उड़ सकूँगी क्यों न मैं भी
सोच साहस बाँधती थी ,
व्यर्थ थी वह साधना औ व्यर्थ यह साहस रहा सखी !
पंथ का कर व्यर्थ अर्चन हार बैठी आज मैं सखी !

डगमगाती तरिणी ने
मँझधार भी न देख पाया ,
क्रूर झंझावात ने
पतवार बन उसको बढ़ाया,
खो गयीं सारी दिशायें, तिमिर में ही बढ़ रही सखी !
पंथ का कर व्यर्थ अर्चन हार बैठी आज मैं सखी !

उषा हँसती, किरण जगती
ज्योति से जग जगमगाता ,
क्षितिज तट का शून्य अंतर
पर न कोई मिटा पाता ,
है क्षणिक द्युति, शून्य शाश्वत, जान पाई आज मैं सखी !
पंथ का कर व्यर्थ अर्चन हार बैठी आज मैं सखी !

किरण