बुधवार, 22 सितंबर 2010

* नवगान *

कौन सा नव गान गाऊँ !
हैं सभी स्वर लय पुराने
कौन सी नव गत बजाऊँ !
कौन सा नव गान गाऊँ !

श्याम अलकों में छिपाये
चँद्रमुख वह रजनि आती,
तारकों से माँग भर कर
स्वप्न जीवन में सजाती,
वह सुखी है,प्रिय,दुखी उर
मैं उसे कैसे दिखाऊँ !

कौन सा नव गान गाऊँ !

चरण अंकित कर महावर
से उषा सुन्दरि सुहागन,
पूजने आती दिवाकर
हृदय में ले साध अनगिन,
भावना के लोक से
कैसे उसे मैं बाँध लाऊँ !

कौन सा नव गान गाऊँ !

प्रिय मिलन को जा रही सरि
आश के दीपक सजाये,
खिलखिलाती लहरियों में
नूपुरों के स्वर मिलाये,
वह अलस मस्ती कहाँ से
व्यथित उर में साध पाऊँ !

कौन सा नव गान गाऊँ !

किरण