सोमवार, 23 मई 2011

कैसा है संसार


अहो यह कैसा है संसार !

यहाँ पर मर मिटने का खेल ,
यहाँ है फूल शूल का मेल ,
कहीं वैभव छलकाते गान ,
कहीं पर सुख का है अवसान ,
कहीं यौवन का मेला है ,
कहीं बालकपन खेला है ,
वृद्ध कहते सिर पर कर मार ,
"हाय, दुखमय है यह संसार !"

कोई सुख में रहता है लीन ,
कोई रहता हरदम ग़मगीन ,
किसीको है जीवन की चाह ,
कोई मरता भर-भर कर आह ,
धर्म, धन, मान कोई पाता ,
कोई है भीख माँग खाता ,
सभी कह रहे पुकार-पुकार ,
"मोह माया मय है संसार !"

भानु का जब होता अवसान ,
चंद्र का होता है उत्थान ,
पुष्प ने पाया बालापन ,
निराला उसका आकर्षण ,
तुरत आया उसका यौवन ,
अंत बन बिखरा वह रज कण ,
शून्य हो कहते मेघ पुकार ,
"अरे, क्षणभंगुर है संसार !"

प्रथम बालापन है आया ,
युवावस्था ने भरमाया ,
देख कर धन, वैभव, माया ,
सभी कुछ पल में बिसराया ,
अनन्तर वृद्धापन आया ,
रोग ने आकर डरपाया ,
लिया तब औषधि का आधार ,
"प्रमादी है सारा संसार !"

हाय मन अटकाया धन में ,
पुत्र, पति, मात-पिता गण में ,
लिया नहीं राम नाम मन में ,
तेल जीवन घटता क्षण में ,
अंत में हुआ दीप निर्वाण ,
चिता का किया गया निर्माण ,
अग्नि कह रही पुकार-पुकार ,
"अरे अस्थिर है यह संसार !"


किरण

छत्र गूगल से साभार