रविवार, 21 नवंबर 2010

राह बताता जा रे राही

ओ राही राह बताता जा रे राही !

बीहड़ पंथ डगर अनजानी,
बिजली कड़के बरसे पानी,
नदी भयानक उमड़ रही है,
नाव डलाता जा रे राही !

राह बताता जा रे राही !

मेरी मंजिल बहुत दूर है,
अन्धकार से राह पूर है,
स्नेह चुका जर्जर है बाती,
दीप जलाता जा रे राही !

राह बताता जा रे राही !

चलते-चलते हार गयी रे,
नैनन से जलधार बही रे,
ओ रे निष्ठुर व्यथित हृदय की,
पीर मिटाता जा रे राही !

राह बताता जा रे राही !

रूठे देव मनाऊँ कैसे,
दर्शन उनके पाऊँ कैसे,
मान भरे मेरे अंतर का
मान मिटाता जा रे राही !

राह बताता जा रे राही !
राह बताता जा !

किरण