गुरुवार, 18 नवंबर 2010

बैठूँ या कि जाऊँ मैं हार !

बैठूँ या कि जाऊँ मैं हार !

ले समस्त अंतर का प्यार
आई हूँ मैं तेरे द्वार,
सुन्दर भाव कुसुम सुकुमार
करने भेंट अश्रु का हार,
खोल खोल ओ रे करुणामय
अपनी करुण कुटी का द्वार !
बैठूँ या कि जाऊँ मैं हार !

इस जीवन के शीत हेमंत
मम पतझड़ के मधुर वसंत,
तीव्र ग्रीष्म में जल की धार
शीतल तव स्मृति आभार,
निष्ठुर निर्दयता में क्या
पा लोगे अब जीवन का सार !
बैठूँ या कि जाऊँ मैं हार !

व्याकुल उर की क्षीण पुकार
और दीन दुखियों का प्यार,
दया सिंधु वह दया अपार
तुम्हें खींच लाती इस पार,
क्या न तुम्हें कुछ आती करुणा
सुन कर मेरी करुण पुकार !
बैठूँ या कि जाऊँ मैं हार !

किरण