रविवार, 29 अगस्त 2010

* आँसू से भीगा आँचल *

मैं लिये हाथ में बैठी आँसू से भीगा आँचल !

जब संध्या की बेला में
उड़ती चिड़ियों की पाँतें,
कर याद हाय रो पड़ती
बीते युग की वो बातें,
जब तुम मुझसे कुछ कहते
मैं लज्जा से झुक जाती,
मेरी अलकों की लड़ियाँ
कानों के कंगना बाती,
बस इसीलिये तो उठता
यह ज्वार ह्रदय में उच्छल !

मैं लिये हाथ में बैठी आँसू से भीगा आँचल !

सोते नीड़ों में पंछी
पंखों में चंचु छिपाए,
आँसू की माल पिरोती
मैं मन में पीर बसाए,
तुम भूल गए परदेसी
उस शरद यामिनी के क्षण,
जब किरण उज्ज्वला आकर
सिंचित कर जाती तन मन,
ये दृश्य अभी भी चित्रित
है ह्रदय पटल पर अविकल !

मैं लिये हाथ में बैठी आँसू से भीगा आँचल !

मधु ऋतु की मधुरिम संध्या
की याद ह्रदय में आती,
तुम कुंजों में जा छिपते
मैं एकाकी डर जाती,
व्याकुल उर की विनती सुन
तुम आते मैं मुस्काती,
बतला तो दो कब तक मैं
यूँ मन को रहूँ भुलाती,
टूटी सारी आशायें
टूटा जीने का सम्बल !

मैं लिये हाथ में बैठी आँसू से भीगा आँचल !


किरण