बुधवार, 25 अगस्त 2010

* जिज्ञासा *

देव तुम्हारी मंजु मूर्ति को
लेकर मैंने प्यार किया,
दुनिया के सारे वैभव को
तव चरणों में वार दिया !

किन्तु अविश्वासी जगती से
छिपा न मेरा प्यार महान्,
पागल कहा किसीने मुझको
कहा किसीने निपट अजान !

कहा एक ने ढोंगी है यह
जग छलने का स्वांग किया,
कहा किसी ने प्रस्तर पर
इस पगली ने वैराग्य लिया !

लख कर मंजुल मूर्ति तुम्हारी
मैंने था सौभाग्य लिया ,
कह दो मेरे इष्ट देव
क्या मैंने यह अपराध किया ?

किरण