शुक्रवार, 20 अगस्त 2010

* मेरी वीणे *

मेरी वीणे कुछ तो बोल !
सुना-सुना कुछ प्रियतम हित ही
मधुमय अमृत घोल !
मेरी वीणे कुछ तो बोल !

मीठे-मीठे राग सुना कर,
प्रियतम के सुन्दर गुण गाकर,
इस व्याकुल से उर की उलझी
गुत्थी को तू खोल !

मेरी वीणे कुछ तो बोल !

उन्हें बुला दे अगम शक्ति से,
राग सुना कर प्रेम भक्ति के,
ओ मेरे जीवन की सहचरी
प्रिय का ह्रदय टटोल !

मेरी वीणे कुछ तो बोल !

विरह गान गाये जीवन भर,
रोयी है तू मुझे रुला कर,
गा मृदु स्वर लय आशा तंत्री
रस में विष मत घोल !

मेरी वीणे कुछ तो बोल !

किरण