रविवार, 15 अप्रैल 2012

जहाँ से चले थे

जहाँ से चले थे वहीं जा रहे हैं ,
न पूछो कि क्या-क्या लिये जा रहे हैं !

किसीकी खुशी का लुटा कारवाँ है ,
किसीके चमन पर बरसती खिज़ाँ है ,
ये दिल बेबसी से सिये जा रहे हैं ,
न पूछो कि क्या-क्या लिये जा रहे हैं !

यहाँ गम के नगमें सुनाएँ किसे हम ,
तड़पता हुआ दिल दिखायें किसे हम ,
हम आँखों के आँसू पिये जा रहे हैं ,
न पूछो कि क्या-क्या लिये जा रहे हैं !

किसीकी निगाहों में बेकार हैं हम ,
किसीकी तमन्ना से बेज़ार हैं हम ,
सिसकते हुए भी जिए जा रहे हैं ,
न पूछो कि क्या-क्या लिये जा रहे हैं !

मचलते रहें यूँ ना अरमाँ किसीके ,
बिखरते फिरें यूँ ना सामाँ किसीके ,
जियें वो दुआ हम दिये जा रहे हैं ,
न पूछो कि क्या-क्या लिये जा रहे हैं !


किरण